मर्चेंट नेवी में कैसे जाए

मर्चेंट नेवी में करियर कैसे बनाये  

मर्चेंट नेवी नाम इंडियन नेवी से मिलता-जुलता है, जिसके कारण प्रायः लोग इसे नेवी का ही एक हिस्सा समझते  है ,परन्तु इसका नेवी से कोई सम्बन्ध नहीं है, यह नेवी से बिल्कुल ही अलग है, मर्चेंट नेवी के लोग अपना अधिकांश समय समुद्र में गुजारते हैं, इसलिए पिछले कई वर्षों में मर्चेंट नेवी की ओर छात्रों का रुझान बढ़ता हुआ देखनें को मिल रहा है, मर्चेंट नेवी की नौकरी एक रोमांचक नौकरी मानी जाती  है, जिसमें अच्छे वेतन के साथ देश- विदेश के विभिन्न स्थानों पर जानें  के अवसर प्राप्त होते है, यदि आप मर्चेंट नेवी में अपना करियर बनाना चाहते है, तो इसके बारे में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है कि मर्चेंट नेवी में कैसे जाए|

ये भी पढ़े: असिस्टेंट कमांडेंट कैसे बने

ये भी पढ़े: परीक्षा के लिए Preparation नोट्स कैसे बनाए

मर्चेंट नेवी में करियर बनानें हेतु योग्यता

मर्चेंट नेवी में दसवीं पास से लेकर बीटेक डिग्रीधारी तक की नियुक्तियां होती हैं,  इसमें पद के अनुसार योग्यताएं अलग-अलग होती हैं, इस क्षेत्र में जानें के लिए अभ्यर्थी क आयु 16 से 25 वर्ष के मध्य होनी चाहिए, यदि आप 10वीं पास करनें  के बाद मर्चेंट नेवी में करियर बनाना चाहते हैं, तो इसके लिए प्री-सी ट्रेनिंग फॉर पर्सोनेल, डेक रेटिंग, इंजन रेटिंग, सलून रेटिंग जैसे डिप्लोमा कोर्स कर सकते हैं, इन पाठ्यक्रमो की समय अवधि तीन से चार माह होती हैं, यदि छात्र  नेविगेशनल या इंजीनियरिंग के क्षेत्र में जाना चाहते हैं, तो नॉटिकल साइंस, मरीन इंजीनियरिंग या मैकेनिकल इंजीनियरिंग का कोर्स करना होता है,  ऐसे पाठ्यक्रमों में भौतिकी , रसायन  व गणित से बारहवीं पास विद्यार्थी प्रवेश प्राप्त कर सकते हैं,  नॉटिकल साइंस की समय अवधि तीन वर्ष तथा मरीन इंजीनियरिंग चार वर्ष की अवधि का पाठ्यक्रम है ।

ये भी पढ़े: रॉ एजेंट कैसे बने यहाँ से जाने 

व्यक्तिगत कुशलता (Personal Skills )

इस क्षेत्र में अभ्यर्थी का शारीरिक रूप से स्वस्थ होना आवश्यक है, क्योकि इसमें लंबे समय तक समुद्र के बीच रहना होता है, इसलिए स्वयं को हर परिस्थिति के अनुरूप एडजस्ट करना पड़ता है, इसमें रूचि रखनें वाले प्रोफेशनल्स में धैर्य और टीम भावना होना अत्यंत आवश्यक है, इस फील्ड में आने वाले लोगों को अपने परिवार से कई महीनों तक दूर रहना पड़ता है, अत: इसके लिए भी तैयार रहना चाहिए ।

ये भी पढ़े : सरकारी नौकरी मिलेगी जरूर अगर आपका करेंट अफेयर्स होगा मजबूत

मर्चेंट नेवी में कैसे जाए

मर्चेंट नेवी व्यापारिक क्षेत्र से सम्बंधित है, जिसमें समुद्री जहाजों के माध्यम से सामान तथा यात्रियों को एक स्थान से दूसरे जगह स्थान तक पहुँचाया जाता है, मर्चेंट नेवी में सरकारी और प्राइवेट दोनों तरह की कंपनियां कार्य  करती है ।

ये भी पढ़े: सीबीआई ऑफिसर कैसे बने 

नॉटिकल साइंस या मरीन इंजीनियरिंग डिग्री कोर्स हेतु अभ्यर्थियों को जेईई उत्तीर्ण करना होता है, इसके पश्चात बीएससी नॉटिकल साइंस के लिए टीएस चाणक्य, मुंबई और मरीन इंजीनियरिंग कोर्स के लिए एमईआरआई, कोलकाता में प्रवेश मिलता है । कोर्स में प्रवेश से पूर्व स्वाथ्य परीक्षण प्रक्रिया में सफल होना अनिवार्य  है, इस परीक्षण में मुख्य रूप से आई-साइट 6/6 होना चाहिये ।

मर्चेंट नेवी में अभ्यर्थी फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथ्स विषय से बारहवीं पास विद्यार्थी डेक कैडेट के रूप में इस क्षेत्र में सीधे प्रवेश प्राप्त कर सकते है, इसमें अभ्यर्थियों को कार्य करते हुए प्रशिक्षण प्रदान किया जाता  हैं,  इसी प्रकार , मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल तथा टेक्नोलॉजी इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट  छात्र मर्चेंट नेवी में इंजन कैडेट/ फिफ्थ इंजीनियर/ जूनियर इंजीनियर के रूप में सम्मिलित हो  सकते हैं ।

ये भी पढ़े: इंडियन आर्मी में पद और रैंक

मर्चेंट नेवी में कार्य

मर्चेंट नेवी में कार्य तीन भाग  डेक, इंजन और सर्विस डिपार्टमेंट में विभाजित  है,  डेक विंग के अंतर्गत  कैप्टन, चीफ ऑफिसर, थर्ड ऑफिसर और जूनियर ऑफिसर जैसे प्रोफेशनल्स अपनी सेवाएं देते हैं,  इंजन डिपार्टमेंट में चीफ इंजीनियर, सेकंड इंजीनियर, थर्ड इंजीनियर, फोर्थ इंजीनियर, इलेक्ट्रिकल ऑफिसर और जूनियर इंजीनियर्स जैसे प्रोफेशनल्स अपनी सेवाएं देते है । मर्चेंट नेवी के सर्विस डिपार्टमेंट के अंतर्गत  लाइट कीपर, नर्स, नॉटिकल सर्वेयर, शिप पर स्टूअर्ड, गोताखोर आदि जैसे प्रोफेशनल किचन, लॉण्ड्री तथा यात्री सेवाएं उपलब्‍ध कराते है । डेक डिपार्टमेंट के अंतर्गत  ‘रेटिंग्स” के रूप में अन्य विशिष्ट स्टाफ भी सम्मिलित होता है, जो अन्य कार्यों में अपना सहयोग देते है ।

ये भी पढ़े: सब इंस्पेक्टर कैसे बन सकते हैं यहाँ से जाने 

मर्चेंट नेवी में पहली नियुक्ति

मर्चेंट नेवी में पहली नियुक्ति एक मरीन इंजीनियर फिफ्थ इंजीनियर या जूनियर इंजीनियर के रूप में होती  है,जबकि नॉटिकल साइंस ग्रेजुएट युवा करियर के प्रारंभिक दिनों में मर्चेंट नेवी डेक कैडेट कहलाते है, कई वर्षों में अनुभव प्राप्त करनें के पश्चात सीनियर पदों पर पहुँचते हैं, मर्चेंट नेवी में ऐसे प्रोफेशनल्स को प्रमोशन प्राप्त करने के लिए डायरेक्टरेट जनरल ऑफ शिपिंग की परीक्षा में सफल होना अनिवार्य है ।

ये भी पढ़े: आईपीएस कैसे बने जाने यहाँ 

मर्चेंट नेवी में वेतन (सैलरी)

मर्चेंट नेवी में डेक या इंजन विभाग से सम्बंधित प्रोफेशनल्स को प्रारंभिक वेतन 40 से 50 हजार रुपए प्रति माह तथा सर्विस डिपार्टमेंट के प्रोफेशनल्स को 15 हजार रुपए प्रति माह मिलता होता है, अनुभव के आधार पर वेतन में वृद्धि होती रहती है |

ये भी पढ़े: भारतीय तट रक्षक कैसे बने यहाँ से जाने 

भारत में प्रमुख शिक्षण संस्थान

1.समुद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेरीटाइम, मुंबई |

2.ट्रेनिंग शिप चाणक्य, मुंबई -इंडियन मेरीटाइम यूनिवर्सिटी, चेन्नई |

3.कोयम्बटूर मरीन सेंटर, कोयम्बटूर -तोलानी मेरीटाइम इंस्टीट्यूट, दिल्ली |

4.इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड मरीन इंजीनियरिंग, कोलकाता |

5.महाराष्ट्र एकेडमी ऑफ नेवल एजुकेशन एंड ट्रेनिंग, पुणे |

6.मेरीटाइम फाउंडेशन, चेन्नई -मद्रास क्रिस्चियन कॉलेज, चेन्नई |

यहाँ आपको हमनें मर्चेंट नेवी में सम्मिलित होनें के बारें में बताया, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करे, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करे

ये भी पढ़े: एयर फ़ोर्स में पायलट कैसे बने