EMI क्या होता है?

EMI कैसे काम करती है (How does EMI Work)  

यदि आप किसी फाइनेंसियल कंपनी या किसी बैक से लोन लेते है, यह लोन आप किसी भी रूप में ले सकते है इसका प्रयोग आप कोई सामान खरीदने या अन्य उपयोग में ले सकते है | इसके बाद हमे यह लोन मासिक किस्त के रूप में देना होता है | यह आप अपनी इच्छानुसार 3, 6, 9, 12 माह आदि की रख सकते है, यह आप अपनी आय के अनुसार निर्धारित कर सकते है |

ये भी पढ़ें: शेयर मार्केट में निवेश कैसे किया जाता है?

ये भी पढ़ें: शेयर मार्केट क्या है ये कैसे काम करता है

EMI फुल फॉर्म (Full Form)

EMI फुल फॉर्म Equated Monthly Installment है, इसे हिंदी भाषा में “मासिक किस्त” कहा जाता है | इस शब्द का प्रयोग लोन लेने में किया जाता है |

ये भी पढ़ें: वायदा कमोडिटी बाजार क्या है

EMI शब्द का अन्य उपयोग (Other uses of the term EMI)

  • EMI – Electric and Musical Instrument
  • EMI – Electromagnetic Interference
  • EMI – Equal Monthly Installment
  • EMI – Electromagnetic Inference
  • EMI – Equated Monthly Installment
  • EMI – Equated Monthly Installment
  • EMI – Electronic Money Institution

ये भी पढ़ें: जीडीपी (GDP) क्या होता है?

EMI क्या है (What is EMI)

जब आप किसी फाइनेंसियल कंपनी या किसी बैक से लोन लेते है, यह लोन आप Equated Monthly Installment या “मासिक किस्त” में चुकाते है | यह मासिक किस्त आप अपनी आय के अनुसार निर्धारित कर सकते है | इसे आप मासिक, त्रैमासिक, छमाही और वार्षिक रूप में चुन सकते है |

ये भी पढ़ें: Money Laundering (मनी लॉन्ड्रिंग) क्या है?

EMI के लाभ (Benefits of EMI)

  • EMI के द्वारा आप कोई भी आवश्यकता का सामान आसानी से खरीद सकते हैं |
  • यदि आपके पास किसी वस्तु को खरीदने के लिए पैसे नही है तो भी आप EMI के द्वारा वह वस्तु खरीद सकते है |
  • ऑफर के समय बिना ब्याज के भी EMI पर वस्तु खरीदने की सुविधा दी जाती है, इसमें EMI के साथ ब्याज नहीं देना पडता है |
  • यदि आप समय पर किस्त भर देते है तो आपका क्रेडिट स्कोर बढ जाता है |
  • EMI में धोखाधड़ी कम होने की सम्भावना होती है, यदि आप विश्वसनीय कम्पनी से EMI करवाते है |

EMI की हानि (LOss Of EMI)

  • EMI में वस्तुओं को महंगा खरीदना पड़ता है, इससे क़िस्त चुकाने मे परेशानी होती हैं |
  • समय पर किस्त ना भरने पर आपको कई प्रकार से सर्विस टैक्स देने पड सकते है |
  • EMI में यदि आपने पॉलिसी पढे बिना उससे जुड़ते है, तो आपको काफी नुकसान व परेशानी उठानी पड सकती है|

ये भी पढ़ें: सेंसेक्स और निफ्टी क्या होता है?

यहाँ पर आपको EMI के विषय में जानकारी दी गयी है| इस प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप https://usidcl.com  पर विजिट कर सकते है | अगर आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है|

ये भी पढ़ें: मार्केट रिसर्च के क्षेत्र में बेहतर करियर की संभावनाए

ये भी पढ़ें: बिजनेस की शुरुआत कैसे करे

ये भी पढ़ें: कम समय में सही निर्णय कैसे ले