बैडमिंटन खेलने के नियम

बैडमिंटन खेलने के नियम, प्रक्रिया 

बैडमिंटन विश्व में लोकप्रिय खेलों में से एक है, यह अधिकांश देशों में खेला जाता है, बैडमिंटन के खेल में न्यूनतम दो लोगों की आवश्यकता होती है, इसे शटलकाक और रैकेट की सहायता से खेला जाता है | इसका आयोजन पांच प्रकार से किया जाता है, पुरुषों और महिलाओं के एकल, पुरुषों और महिलाओं के युगल और मिश्रित युगल इसमें एक टीम में एक महिला और एक पुरुष होते है | बैडमिंटन खेलने के नियम क्या है ? इसके बारें में विस्तृत जानकारी आपको इस पेज पर दे रहे है |

ये भी पढ़े: खेल में करियर कैसे बनाये ?

ये भी पढ़े: कुश्ती में करियर कैसे बनाये ?

बैडमिंटन खेलने के नियम

  • बैडमिंटन में दो व्यक्तिओं के बीच शटलकॉक का आदान-प्रदान किया जाता है, यदि दोनों में से किसी के द्वारा शटलकॉक भेजने पर चूक हो जाती है, तो विपरीत व्यक्ति को अंक प्राप्त हो जाता है |
  • प्रत्येक खेल कुल 21 अंकों का होता है, एक मैच को तीन भागों में विभाजित किया जाता है, यदि दोनों टीमों को 20 -20 अंक प्राप्त होते है, तो यह खेल तब तक जारी रहता है, जब तक किसी एक टीम को दूसरी टीम से अधिक अंक प्राप्त नहीं होते है |
  • यह खेल 29 प्वॉइंट तक जारी रखा जा सकता है, अंत में 29 प्वॉइंट के बाद गोल्डन प्वॉइंट होता है, जो खिलाड़ी इसे जीत लेता है, उसे मैच का विजेता घोषित कर दिया जाता है |

ये भी पढ़े: एशियाई खेल का इतिहास – कब होता है आयोजित

खेल की प्रक्रिया

  • खेल के प्रारम्भ  में टॉस किया जाता है, जिससे यह निर्धारित किया जा सके की कौन सा खिलाड़ी सर्व करेगा और कौन सा खिलाड़ी रिसीवर करेगा |
  • एक मैच में तीन खेल होते है, खिलाड़ी को जीतने के लिए तीन में से दो खेल जीतने आवश्यक है |
  • खिलाड़ी को अपना कोर्ट दूसरे खेल में बदलना अनिवार्य है |
  • सर्वर और रिसीवर को बिना सर्विस लाइन को टच किए कोर्ट के अंदर रहना होता है |
  • लेट काल होने पर पुनः खेला जाता है |
  • यदि रिसीवर तैयार नहीं है, और सर्वर के द्वारा सर्व कर दिया जाता है, तो इसे लेट काल के रूप में माना जाता है |

ये भी पढ़े: क्रिकेट के नियम (वनडे, टेस्ट, टी 20) हिंदी में

कोर्ट साइज

badminton

यह एक आयताकार स्थान होता है, जिसे नेट के द्वारा दो भागों में विभाजित किया जाता है, अधिकतर कोर्ट का निर्माण इस प्रकार किया जाता है, जिसमें सिंगल्स और डबल्स दोनों प्रकार के खेल आसानी से हो सके | कोर्ट को 40 मिमी लाइन से स्पष्ट रूप से प्रदर्शित किया जाता है | लाइन में सफ़ेद या पीले रंग का प्रयोग किया जाता है | कोर्ट की चौड़ाई 6.1 मीटर या 20 फ़ीट होती है | सिंगल्स मैच के समय इसे 5.18 मीटर कर दिया जाता है, कोर्ट की लम्बाई 13.4 मीटर या 44 फिट होती है | कोर्ट के नेट से 1.98 की दूरी पर दोनों ओर सर्विस लाइन का निर्धारण किया जाता है | डबल्स के समय सर्विस लाइन पीछे से 0.73 की दूरी पर होती है | कोर्ट के नेट में काले रंग के धागे का प्रयोग किया जाता है |

ये भी पढ़े: अपने अंदर के Talent को कैसे पहचाने

शटलकाक

badminton1

शटलकाक को बनाने में सिंथेटिक तत्वों का प्रयोग किया जाता है | एक शटलकाक में 16 पंख लगाए जाते है | इसका भार 4.74 ग्राम से 5.50 ग्राम के मध्य में रहता है |

रैकेट

शटलकाक को गति प्रदान करने के लिए रैकेट का प्रयोग किया जाता है, इसका निर्माण हल्की धातुओं से किया जाता है | रैकेट की लम्बाई 680 मिलीमीटर और चौड़ाई 230 मिलीमीटर होती है, इसका भार 70 से 95 ग्राम के मध्य में रहता है |

यहाँ पर हमनें आपको बैडमिंटन के विषय में बताया, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: क्रिकेट में करियर कैसे बनाये

ये भी पढ़े: ओलंपिक में भारत के पदक 2018 

ये भी पढ़े: विभिन्न क्षेत्रों में करियर की संभावनाएं