आंगनबाड़ी योजना क्या है जाने इससे जुडी तमाम जानकारी

आंगनबाड़ी योजना से सम्बंधित जानकारी 

भारत में आंगनबाड़ी योजना के अंतर्गत छह वर्ष की आयु के आठ करोड़ बच्चों को सम्मिलित किया गया है, इस योजना में तीन वर्ष  तक के बच्चों की मां और उनके तीन से छह वर्ष के बच्चों को आंगनबाड़ी केंद्र में नियमित रूप से स्वास्थ्य की जांच, टीकाकरण, सफाई और स्वास्थ्य की जानकारी और स्कूल पूर्व की बुनियादी शिक्षा प्रदान की जाती है | इस योजना का शुभारम्भ केंद्र सरकार ने 1985 में किया था | वर्ष 2010 के बाद राज्य सरकारें भी इसमें सहयोग देने लगी | वर्ष 2014 तक केंद्र और राज्य सरकारें इस योजना के अन्तर्गत राशन के खर्च में आधा- आधा सहयोग देने लगी, परन्तु केंद्र सरकार नब्बे प्रतिशत प्रशासनिक खर्च वहन करती थी | अब नई व्यवस्था के अनुसार आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का मानदेय और पूरा प्रशासनिक खर्च राज्य सरकार को ही देना होगा | इस पेज पर आंगनबाड़ी योजना के विषय में विस्तार से जानकारी दे रहे है |

ये भी पढ़े: 12th के बाद कैरियर कैसे बनाये

ये भी पढ़े: आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कैसे बनें ?

आंगनबाड़ी योजना क्या है

भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में तीन से छह वर्ष के बच्चों और उनकी मां को कुपोषण से बचाने के लिए भारत सरकार द्वारा एकीकृत बाल विकास सेवा कार्यक्रम के अंतर्गत आंगनबाड़ी योजना को आरंभ किया गया है | आंगनबाड़ी को “आंगन आश्रय” भी कहा जाता है |

इस योजना के अंतर्गत गावों और कस्बों में घनी आबादी वाले क्षेत्रों में एक आंगनबाड़ी केंद्र खोला जाता है | इस केंद्र को छोटे बच्चों का पूर्व प्राथमिक विद्यालय के नाम से भी जाना जाता है, इस केंद्र में सरकार द्वारा प्रदान की गयी अत्याधुनिक सुविधाएँ होती है, जो बच्चों और उनकी मां को कुपोषण से बचाते है, इन सुविधाओं के रूप में उन्हें पोषित भोजन, स्वास्थ्य सेवाएं, खेल सामग्री, बच्चों की पुस्तकें, गर्भधात्री महिलाओं की सही समय पर जाँच और परामर्श, बच्चों को बुनियादी ज्ञान से शिक्षित करना इत्यादि है |

आंगनबाड़ी केंद्र वह स्थल होता है, जहाँ पर बच्चे और महिलाएं को घर जैसा वातावरण उपलब्ध कराया जाता है, जिससे उनको किसी भी प्रकार का संकोच न रहे |

ये भी पढ़े: ITI Course कैसे करे

योजना को संचालित करने वाले मुख्य पद

1.सीडीपीओ (सरकारी पद) |

2.सुपरवाइजर (सरकारी पद) |

3.आंगनबाड़ी कार्यकर्ती (संविदा पद) |

4.आंगनबाड़ी सहायिका (संविदा पद) |

सीडीपीओ

यह एक सरकारी और राजपत्रित अधिकारी पद है | इसके अंतर्गत यह योजना संचालित होती है, परियोजना को सुचारू रूप से संचालित करने की जिम्मेदारी इसी पद पर कार्यरत कर्मचारी की होती है | इसके अधीन सभी सुपरवाइजर, आंगनबाड़ी कार्यकर्ती, आंगनबाड़ी सहायिका आती है |

ये भी पढ़े: लोक कल्याण मित्र कैसे बनें ?

सुपरवाइजर

यह एक सरकारी पद है, इस पद के अधीन आंगनबाड़ी कार्यकर्ती, आंगनबाड़ी सहायिका आती है | प्रत्येक सुपरवाइजर के आधीन 20 से 40 आंगनबाड़ी केंद्र होते है, यह सुपरवाइजर प्रत्येक केंद्र पर जाकर योजना को संचालित करवाती है, और आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों का मार्गदर्शन करती है |

आंगनबाड़ी कार्यकर्ती

यह योजना को संचालित करने का मुख्य पद है | यह बच्चों को शिक्षा प्रदान करती है और महिलाओं को उचित परामर्श व सहायता प्रदान करती है, यह सभी महिलाओं से मिलती है और उनकों सरकार द्वारा प्रदान की गयी सुविधाओं और योजना की पूरी जानकारी और योजना का लाभ प्रदान करने में मुख्य सहायता प्रदान करती है | सम्पूर्ण आंगनबाड़ी केंद्र को सही से संचालित करनें  की जिम्मेदारी आंगनबाड़ी कार्यकर्ती की होती है | यह बच्चों को खेल-खेल में शिक्षा प्रदान करने का पूरा प्रयास करती है और उन्हें भोज्य पोषक पदार्थ भी उपलब्ध करवाती है | इस पद के अधीन आंगनबाड़ी सहायिका होती है | यह पद संविदा पर आधारित है, सरकार द्वारा इन्हें पारिश्रमिक के रूप में मानदेय प्रदान किया जाता है, जिसमें समय-समय पर वृद्धि होती रहती है |

ये भी पढ़े: सरकारी नौकरी मिलेगी जरूर अगर आपका करेंट अफेयर्स होगा मजबूत

आंगनबाड़ी सहायिका

इस पद पर कार्य कर रही महिलाएं आंगनबाड़ी कार्यकर्ती की सहायता करती है | आंगनबाड़ी सहायिका बच्चों को घर से लाती है और उन्हें वापस घर पर छोड़ती है और केंद्र में संचालित होने वाले प्रत्येक कार्यक्रम में सहायता करती है | आंगनबाड़ी सहायिका पद संविदा पर है, सरकार द्वारा इन्हें प्रति माह मानदेय प्रदान किया जाता है, जिसमें समय-समय पर वृद्धि होती रहती है |

ये भी पढ़े: जानिये PM मोदी द्वारा सरकारी योजनाएं !

आंगनबाड़ी योजना में भ्रष्टाचार

आंगनवाड़ी योजना के अंदर कई क्षेत्रों में भ्रष्टाचार पाए गए, जिससे सरकार द्वारा दी गयी राशि का उपयोग पात्र बच्चें और महिलाओं को नहीं प्राप्त होती है | आंगनबाड़ी कार्यकर्ती और आंगनबाड़ी सहायिका का पद संविदा पर है, जिस कारण कई क्षेत्रों में नौकरी समाप्त करने की धमकी देकर प्रतिमाह धन वसूला जाता है और सरकार द्वारा केंद्र पर भोजन पका कर खिलाने की योजनाओं और अन्य योजनाओं के लिए निर्धारित धन में भी बहुत बड़ा भाग पहले ही सरकारी कर्मचारियों द्वारा वसूल लिया जाता है, जिससे भोजन की गुणवत्ता और अन्य योजनाएं प्रभावित होती है |

ये भी पढ़े: अपने अंदर के Talent को कैसे पहचाने

यहाँ पर हमनें आपको आंगनबाड़ी योजना के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करे, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: आयुष्मान भारत योजना 2018 क्या है

ये भी पढ़े: इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (IPPB) क्या है ?

ये भी पढ़े: एल आई सी (LIC) एजेंट कैसे बने